Friday, January 15, 2010





   


Saturday, January 9, 2010

चतुर अधरों पर थिरकती बांसुरी होती अगर

लय सुरों की मधुर लहरी




मैं सुनाती गीत निर्झर,


चतुर अधरों पर थिरकती बांसुरी होती अगर!






तोड़कर तटबंध उन्नत


रिक्तता को पूर्ण करती


मेटती चलती निराशा


मैं उफनकर भी सिमटती,


शगुन लिख देती दुवारे -हाथ हल्दी में डुबोकर


Doob  अच्छत से भरी मैं आंजुरी होती अगर!






मैं खगी सी मुक्त उडती


गुंजती अमराईयों को


मन मुकुर में बंद करती


सांझ की परछाईयों को,


महमहाती वाटिका में मैं सुघड़ श्रुंगार बनकर


रूप-रंजित सुरभि पूरित पांखुरी होती अगर!






भीगते न नयन किंचित


सुन किसी का करुण क्रंदन


मानवी आकांक्षाएं


तोडती स्वजनित बंधन.


तृप्त तृष्णा पावं धरती वर्जनाओं की सतह पर


वृत्तियाँ मुझमे अगर कुछ आसुरी होतीं अगर!






"असीम"

वर्षे! तुम आंसू हो या जल

गगन धरा की सेतु सुंदरी,पूंछ रहा है तुमसे भूतल



वर्षे! तुम आंसू हो या जल!






सुन चातक की करुण पुकारें


तू उमड़ी फिर उठी गगन में,


फिर कोई मछली तडपी क्या


जो बिजली चमकी अंग-अंग में,


या दादुर का क्रंदन सुन-सुन


फूट-फूट रोया बादल!






वर्षे! तुम आंसू हो या जल!






धरती के प्यासे अधरों ने


तुम्हे पुकारा फिर फिर भू पर


नेह-निमंत्रण तुम्हे दिया क्या


पवन झकोरों ने भी छूकर,


या फिर तुमको खींच बुलाया


रुंधे स्वरों में सागर विह्वल!






वर्षे! तुम आंसू हो या जल!






फिर से तट पर बंधी नावं ने


भेज दिया तुमको आमंत्रण


सूखी नदियाँ आ लहरा दो


भीग जाए तन-मन का कण कण ,


ललचाया नाविक फिर लखकर


कजरारे मेघों का आँचल!


वर्षे! तुम आंसू हो या जल!!






"असीम"

लौटी नावें मंथर मंथर सांझ हुई

लौटी नावें मंथर मंथर सांझ हुई


मछुवारे ने जाल समेटा सांझ हुई

लौटी नावें मंथर मंथर सांझ हुई !!



प्राची सन्देश आँख में लेकर लौटे बन पांखी

पश्चिम नयन टिकाये बैठा प्रिय मिलन का चिर अभिलाषी!

अधरों पर अरुणाई आई प्रहर युगल का लख मधु गोपन

धरती अम्बर मंद हास में महामिलन के बनते साखी!!



"चकवी की कम्पित आँखों में सांझ हुई"

लौटी नावें मंथर मंथर सांझ हुई !!



बूढ़े बरगद की परछाई बढ़ी देखने मिलन सुहाना

याद आ गए खुले चंचु तब लौटे पंछी लेकर दाना,

कंधे पर झोली लटकाए उंगली में बन्दर की डोरी

शीश झुकाए चला मदारी बुनता कल का ताना बाना!!



"बंजारन के थके पावं में सांझ हुई"

लौटी नावें मंथर मंथर सांझ हुई !!



दीपक लेकर चला पुजारी हरने मंदिर का सूनापन

बजी घंटियाँ क्षीण स्वरों में गूँज रहा हर घर का आँगन,

कर सोलह श्रुंगार उदासी त्याग अधर पर स्मित लेकर

चली रिझाने भोगी मन को नगर वधु की नियति सनातन!!



"सिसक-सिसक कर बाजे घुंघरू सांझ हुई"

लौटी नावें मंथर मंथर सांझ हुई !!



"असीम"

Blog Archive